खत

Letters

ज़बान पर ताले लटके हुए थे
आँखों से झाँक रहे थे आंसू
होंठ हो रहे थे सुर्ख
सांसें थी बेमानी|
धड्कनें कभी तेज
तो कभी धीमी
चेहरा निस्तेज
और उम्मीदें रुआँसी|
हर लम्हा बोझ बनकर
गिरता मेरे ऊपर
रगों में दौड़ता लहू
मानो जम सा गया था|

चौबीस घंटे हो गए थे
उस पहले खत का जवाब अभी तक ना आया था||

Advertisements

Say Something About This Post

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s